राम-रहीम की सज़ा पर पीड़िता और कोर्ट को सलाम कर गौतम ने उठाया ‘गंभीर’ मुद्दा

इस पूरे मामले पर टीम इंडिया के बल्लेबाज़ गौतम गंभीर ने ट्वीट कर कहा, ‘इस अपराध को उजागर करने वाली पीढ़ित महिला, सीबीआई अदालत और जस्टिस सिंह को सलाम.’

 

लेकिन बधाई संदेश के साथ गंभीर ने अपने इस ट्वीट में एक गंभीर मुद्दे पर भी प्रकाश डालने की कोशिश की. उन्होंने कहा, ‘अब कोर्ट में रेप के बाकी बचे 1 लाख 37 हज़ार और 458 केसों को भी जल्द से जल्द इंसाफ मिलना चाहिए. वो भी हमारा हिस्सा हैं.’

कल सजा सुनाने के दौरान कोई नरमी बरतने से इनकार करते हुए सीबीआई की विशेष अदालत के जज जगदीप सिंह ने कहा कि पीड़ित लड़कियों ने डेरा प्रमुख को भगवान माना, लेकिन उसने गंभीर धोखा किया.

सीबीआई अदालत के जज ने कहा कि एक ऐसे व्यक्ति को नरमी पाने का कोई हक नहीं है जिसे न तो इंसानियत की चिंता है और न ही उसके स्वभाव में दया-करूणा का कोई भाव है. उन्होंने कहा कि किसी धार्मिक संगठन की अगुवाई कर रहे व्यक्ति की ओर से किए गए ऐसे आपराधिक कृत्य से देश में सदियों से मौजूद पवित्र आध्यात्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और धार्मिक संस्थाओं की छवि धूमिल होना तय है.

राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के बाद से सिरसा में कर्फ्यू लगा हुआ था जिसमें अब ढील दी गई है. हरियाणा सरकार ने सिरसा में आज सुबह सात से शाम सात बजे तक कर्फ्यू में ढील दी है. बता दें कि सिरसा राम रहीम का गढ़ माना जाता है.

इस पूरे मामले में राम रहीम को सज़ा मिलने के बाद पीड़िता ने सामने आकर कहा, ”मुझे इंसाफ मिला है. पीड़िता ने ये भी कहा है कि न मैं पहले डरी थी और न मैं आज डरी हुई हूं.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here