रामनाथ कोविंद आज लेंगे शपथ परिवार ने कहा- यह लम्हा हमेशा याद रहेगा

Indian News Company

रामनाथ कोविंद देश के 14वें राष्ट्रपति के रूप में आज शपथग्रहण करेंगे. उनके शपथ ग्रहण में राजनीति जगत के कई दिग्गज शामिल होंगे. शपथ ग्रहण के लिए राष्ट्रपति भवन में खास तैयारियां की गई हैं. सबसे पहले वह महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने राजघाट पहुंचे. उसके बाद रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति भवन जाएंगे, जहां निर्वतमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी उनकी अगवानी करेंगे. इसके बाद रामनाथ कोविंद, प्रणब मुखर्जी के साथ संसद के सेंट्रल हॉल जाएंगे. दोपहर 12:15 सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रामनाथ कोविंद को शपथ दिलाएंगे. तय परंपरा के मुताबिक- रामनाथ कोविंद, प्रणब मुखर्जी को उनके नए आवास 10 राजाजी मार्ग छोड़ने जाएंगे.

@10.58 रामनाथ कोविंद की भतीजी ने कहा कि हमें लाइफ में यह लम्हा हमेशा याद रहेगा. वहीं भतीजे पंकज कोविंद ने कहा कि 17 लोग सिर्फ कानपुर देहात से आए हैं. बहुत खुशी हो रही है कि मेरे चाचा सर्वोच्च पद पर पहुंचे हैं.

@10.50: राष्ट्रपति के शपथग्रहण के लिए राष्ट्रपति भवन में खास तैयारियां की गई हैं.

@10.40: रामनाथ कोविंद ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि. उनके साथ पत्नी भी थीं मौजूद

@8.00: शपथ ग्रहण का कार्यक्रम इस तरह होगा 

  • सुबह 11:49 बजे: राष्ट्रपति भवन से आने-जाने वाले राष्ट्रपति सेंट्रल हॉल के
  • लिए निकलेंगे
  • दोपहर 12:03 बजे: दोनों संसद भवन पहुंचेंगे
  • दोपहर 12:15 से 12:20 बजे तक: नए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का शपथ ग्रहण
  • दोपहर 12:23 बजे: सांसदों के नाम नए राष्ट्रपति का संबोधन
  • दोपहर 12:33 बजे: नए राष्ट्रपति के भाषण का अंग्रेज़ी अनुवाद
  • दोपहर 12:43 बजे: समारोह समाप्त, दोनों साथ वापस लौटेंगे
  • दोपहर 12:57 बजे: दोनों राष्ट्रपति भवन पहुंचेंगे

इससे पहले राष्ट्र के नाम आख़िरी संबोधन में निर्वतमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि समाज में बहस होना ज़रूरी है, लेकिन इसमें हिंसा की कोई जगह नहीं है. उनके विदाई संबोधन में एक तरफ जहां भीड़ द्वारा की जा रही हिंसा का दर्द साफ दिखाई दिया, वहीं प्रदूषण और जयवायु परिवर्तन को लेकर भी वे चिंतित दिखाई दिए. भीड़ की हिंसा पर प्रणब मुखर्जी ने कहा कि हमें अपने जन संवाद को शारीरिक और मौखिक, सभी तरह की हिंसा से मुक्त करना होगा. पर्यावरण का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि पर्यावरण की सुरक्षा हमारे अस्तित्व के लिए बहुत जरूरी है. प्रदूषण और जयवायु परिवर्तन जैसी समस्याओं से निपटने के लिए उन्होंने सभी को साथ मिलकर काम करने का

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here